कपड़ों में मांसाहार | Non-vegetarian clothing!

Take a look at the research paper below.

Q-1- Is mutton tallow being used in the sizing process of yarn even in todays times? Yes. Even today Mutton Tallow is being used in cotton and blended yarn sizing, mainly for coarse count yarns.  Q-2- If yes, why is mutton tallow being used in sizing of yarn when synthetic or vegetable tallow is sold in the market? Nowadays, some synthetic softeners are available in the market to replace mutton tallow. Cost wise mutton tallow is much cheaper compared to other available substitutes. Hence for cost considerations mutton tallow is used.  Q-3-Does the Powerloom sector (apart from the mills) use mutton tallow in the sizing process of the yarn? Yes. The sizing process for the powerloom as well as for mill sector. Mutton tallow is used in small as well as big industries.  Q-4-Which other processes in the textile processing require mutton tallow as an agent? Modified mutton tallow is used as cationic softener in the finishing process of cotton and blended fabric. Alternate synthetic softeners of cationic and anionic and non-ionic nature are available in the market. Emulsified mutton tallow may also be mixed in the synthetic softener.  Q-5- Does fabric softener agent contain mutton tallow? Yes. Modified mutton tallow is used as softening agent for finishing of fabric Al times, mixture of non-ionic and cationic softeners are used in finishing   Q-6- Does the finished cotton fabric contain traces of mutton tallow In It? Yes. If the mutton tallow containing softener is used in finishing then traces of mutton tallow will be present in the finished fabric. Sometimes the finished fabric also gives a smell of mutton tallow.  With regards,  Krulesh chala Dr KC Gupta

Use of non vegetarian in clothes, mutton tallow  animal fat for sizing and textile softner, animal cruelty in fabrics, कपड़ों में मांसाहार मटन टेलो


Incase you can not read these pictures properly...

Q-1- Is mutton tallow being used in the sizing process of yarn even in todays times?

Yes. Even today Mutton Tallow is being used in cotton and blended yarn sizing, mainly for coarse count yarns.

Q-2- If yes, why is mutton tallow being used in sizing of yarn when synthetic or vegetable tallow is sold in the market?

Nowadays, some synthetic softeners are available in the market to replace mutton tallow. Cost wise mutton tallow is much cheaper compared to other available substitutes. Hence for cost considerations mutton tallow is used.

Q-3-Does the Powerloom sector (apart from the mills) use mutton tallow in the sizing process of the yarn?

Yes. The sizing process for the powerloom as well as for mill sector. Mutton tallow is used in small as well as big industries.

Q-4-Which other processes in the textile processing require mutton tallow as an agent?

Modified mutton tallow is used as cationic softener in the finishing process of cotton and blended fabric. Alternate synthetic softeners of cationic and anionic and non-ionic nature are available in the market. Emulsified mutton tallow may also be mixed in the synthetic softener.

Q-5- Does fabric softener agent contain mutton tallow?

Yes. Modified mutton tallow is used as softening agent for finishing of fabric Al times, mixture of non-ionic and cationic softeners are used in finishing 

Q-6- Does the finished cotton fabric contain traces of mutton tallow In It?

Yes. If the mutton tallow containing softener is used in finishing then traces of mutton tallow will be present in the finished fabric. Sometimes the finished fabric also gives a smell of mutton tallow.

With regards,

Krulesh chala Dr KC Gupta

Translation in Hindi

RTI के माध्यम से प्राप्त जानकारी के अनुसार अहमदाबाद वस्त्र उद्योग अनुसंधान संस्थान यह सुनिश्चित करता है कि धागे की मजबूती एवं कपड़ों में सॉफ्टनेस लाने के लिए मटन टेलो का प्रयोग किया जाता है जो कि हिंसक पदार्थ है।

(प्रस्तुत है मूल अंग्रेजी का अक्षरशः अनुवाद)

आदरणीय महोदय,

प्रस्तुत जानकारी आप की इमेल को लेकर के है जिसमें आप जानना चाहते थे कि मटन टेलो का उपयोग कपड़ों में कैसे होता है। आशा है की प्रस्तुत जानकारी पढ़ने के बाद आप की सारी शंकाएं दूर हो जाएंगी। आपके प्रश्न-

प्रश्न - क्या वर्तमान में भी मटन टेलो का उपयोग कपड़ों को बनाने के लिए किया जाता है?

उत्तर- हां आज भी मटन टेलो का उपयोग सूती एवं मिश्रित कपड़ों को बनाने के लिए किया जाता है। खासकर के मोटे धागे के कपड़ों पर तो इसका इस्तेमाल किया ही जाता है। 

मिश्रित कपड़े: ऐसे कपड़े जिसमें कपास के साथ-साथ पॉलिस्टर भी मिलाया जाता है।

प्रश्न - यदि हां तो सिर्फ मटन टेलो का ही उपयोग क्यों, जबकि बाजारों में तो कृत्रिम व खाद्य टेलों भी उपलब्ध है?

उत्तर- हां, वर्तमान में कृत्रिम टेलो भी उपलब्ध है पर यह जो मटन टेलो है, यह कृत्रिम टेलो की तुलना में कहीं ज्यादा सस्ता है। मटन टेलो को उसके सस्ते पन के कारण ही खरीदा जाता है।

प्रश्न - क्या पावर लूम क्षेत्र में भी साइजिंग करने हेतु मटन टेलो का इस्तेमाल होता है?

उत्तर- साइजिंग: धागों को मजबूती देने के लिए उस पर किसी तरल पदार्थ (स्टार्च) की परत चढ़ाई जाती है। इसको साइजिंग प्रक्रिया कहते हैं।

हां, साइजिंग करने हेतु मटन टेलो का इस्तेमाल मिलो वा पावरलूम के कपड़ों में धड़ल्ले से होता है। इस मटन टेलो का उपयोग हर छोटे से बड़े उद्योगों में होता है। 

प्रश्न - साइजिंग के अलावा और कौन-कौन सी प्रक्रिया में मटन टेलो को कपड़ों पर इस्तेमाल किया जाता है?

उत्तर- उपांतरित मटन टेलो का उपयोग केमिकल सॉफ्टनर के रूप में किया जाता है। केमिकल सॉफ्टनर: कपड़ों को मुलायम बनाने के लिए उस पर केमिकल सॉफ्टनर का उपयोग किया जाता है। यह जो cationic, nonionic एवं anionic सॉफ्टनर हैं, ये कृत्रिम रूप से भी बनाए जा सकते हैं। तब भी, कृत्रिम बने हुए सॉफ्टनर को मटन टेलो के साथ मिलाकर कपड़ों पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रश्न - क्या कपड़ों को मुलायम रखने हेतु मटन टेलो का इस्तेमाल कपड़ों पर होता है?

उत्तर- हां, कपड़ो को मुलायम रखने के लिए मटन टेलो का इस्तेमाल, सॉफ्टनर के रूप में होता है। जिसमें समय-समय में nonionic, anionic  एवं‌ cationic सॉफ्टनर (जिसमें उपांतरित मटन टेलो होती है) का मिश्रण भी उपयोग में लाया जाता है।

प्रश्न - क्या तैयार किए गए कपड़ों में मटन टेलो की निशानी छूट जाती है?

उत्तर-‌ हां, यदि सॉफ्टनर में मटन टेलो है तो तैयार माल में भी मटन टेलो की निशानियां छूट जाती है। कभी-कभार तो इनमें से मटन टेलो की बदबू भी आती है

सस्नेह, डॉक्टर के.सी. गुप्ता

मटन टैलो के विषय में अन्य जानकारी

मिल व पावर लूम में बनने वाले तमाम कॉटन, पॉलिस्टर व ऊन के कपड़ों में मटन टैलो का इस्तेमाल होता है।

देशभर के क़त्ल खानों में कत्ल किए गए पशुओं के मांस के साथ चिपकी हुई चर्बी ही मटन टैलो है। मांस के साथ चिपके हुए मटन टैलो में रक्त, पस और दूसरी अशुद्धि मिल गई होती हैं। इस कारण मटन टैलो को केमिकल प्रोसेस द्वारा दुर्गंध और लाल रंग रहित किया जाता है एवं वह बचा हुए सफेद घी जैसा पदार्थ ही मटन टैलो कहलाता है।

नाशिक, बेलगांव, मालेगांव और मुंबई के मटन टैलो के बिजनेसमैन बताते हैं कि वे लोग टनबन्ध माल मालेगाव और इचलकरंजी की सभी साइजिंग यूनिटों में बेचते हैं तथा अहमदाबाद प्रोसेसिंग यूनिट में भी बेचते हैं।

मटन टैलो की एक कंपनी (मालेगांव) के मालिक से पता चला है कि वह अकेला बिजनेसमैन ही एक माह में २०,००० किलो मटन टैलो सिर्फ मालेगाव के एक साइजिंग यूनिट में बेचता है। और उनकी कंपनी टैक्स के साथ ही माल बेचती है इसलिए बिजनेस कम करती है। लेकिन जो लोग टैक्स के बिना माल बेचते हैं उनका बिजनेस ज्यादा है।

प्रतिदिन ३,००,००० पावर लूमों में दो करोड़ मीटर कपड़ा बनाने के लिए मटन टैलो का प्रयोग होता है। (सन् २०१६ रिपोर्ट)

क्या मिल के कपड़े में अन्य हिंसा होती है?

मिल में १ मीटर कपड़ा बनने के लिए १० लीटर पानी का व्यय होता है।

टिप्पणियाँ